/ November 14, 2020/ Uncategorized/ 0 comments

कढा़ई में तेल गर्म होने के लिए गैस पर रख दीजिए. इन्हें पानी पूरी, घुपचुप, पुचका और पुचकी भी कहा जाता है यह सूजी से भी बनाये जाते है और आटे से भी. गोलगप्पा पुरी, एक गोल आकार की फूली हुई छोटी करारी पुरी है जो इतनी छोटी होती है कि आसानी से मुंह में आ जाती है, जो कई सारी चटपटी चाट जैसे कि, एक परात में सूजी, मैदा, बेकिंग सोडा और नमक ले और अच्छे से मिला ले।, एक गीले कपड़े से आटे को ढके और 20-25 मिनट के लिए रख दें।, आटे को 4 बराबर भागों में बाँट ले। प्रत्येक भाग में से एक लोई बनाइये।, एक लोई ले और उसे चकले के ऊपर रखें। उसे बेलन की मदद से बड़े गोल आकर की रोटी में बेल ले, उसकी मोटाई चपाती (लगभग 1-2 मिमी) जितनी ही रखे। इसे बहुत पतला या बहुत मोटा नहीं बेले। अगर बहुत पतली पुरी होगी तो फूलेगी नहीं और अगर बहुत मोटी पुरी होगी तो तलने के बाद करारी नहीं होगी।, एक गोल आकार का छोटा सा ढक्कन (लगभग 2-2.5 इंच व्यास) का उपयोग करके तस्वीर में दिखाया गया है वैसे पुरी काट ले।, अतिरिक्त आटा निकालें और उनमें से फिर से लोई बनाकर पुरी बनाये।, तलने के लिए एक गहरी कढ़ाई (फ्राइंग पैन) में मध्यम आंच पर तेल गरम करें। जब तेल मध्यम गर्म हो जाये तब उसमे 5-6 पूरी डाले। हर एक पुरी को पौने से (या कलछी से) हल्के से दबाए ताकि वह फूले। उन्हें करारी और सुनहरे भूरे रंग की होने तक तले। पूरी को तेल में से निकालें और अतिरिक्त तेल को सोखने के लिए पेपर नैपकिन के ऊपर डाले। सारी पुरी इसी तरह तल ले। जब वह ठंडी हो जाये तब एक डिब्बे में भर दे, पुरी 2-3 हफ्तों तक अच्छी रहती हैं।, एक छोटा गोल आकार का ढक्कन, पूरी काटने के लिए, अंग्रेज़ी में गोलगप्पा पुरी रेसिपी पढ़े (Read in English), उन्हें करारी बनाने के लिए, सख्त आटा गूंथे।, पुरी बनाने के लिए या तो आप आटे में से बड़ी लोईया बनाकर बड़ा गोल बेलकर उसमें से छोटे गोल आकार के ढक्कन के साथ पुरी काट सकते है या आटे को 35-40 छोटे भागों में बांटे और हर एक भाग में से छोटी पुरी बेले।, ध्यान रहे कि बेली हुई पुरी बहुत मोटी है या बहुत पतली नहीं होनी चाहिए।, अगर पुरी तलने के बाद उसमें नमी रहती है तो उन्हें ओवन में (जो कि 200 डिग्री फेरनहाइट पर 10-मिनट के लिए पहले से गर्म किया गया है) 15-20 मिनट के लिए रखे या तेज धूप में 2-3 घंटे के लिए रखे।, अगर आप बेकिंग सोडा नहीं डालना चाहते है तो आटा गूंथने के लिए सादे पानी के बदले सोडा पानी का उपयोग करे।. Golgappa Puri Recipe / Pani Puri Recipe / Puchka gupchup Recipe, nice recipe...also do check out this very east golgappa recipe at Tempting Recipe https://temptingrecipe.com/2020/06/21/golgappa-recipe-homemade-golgappe/, Golgappe fool nhi the....poori Jaise bn rhe h.....or baking powder Ka use Apne nhi btaya h. Mam atte ke golgappe bnaye leykin kurkure nahi bane. तैयार गोल गप्पों को प्लेट के ऊपर रखी जाली वाली डलिया में निकाल कर रखते जायं और सारे गोल गप्पे इसी तरह तल कर तैयार कर लीजिये, पूरी से अतिरिक्त तेल निकल कर, डलिया के नीचे रखी प्लेट में आ जाता है. दो सूती कपड़े लीजिए इन्हें गीला करके निचोड़ लीजिये, एक कपड़ा बिछा लीजिये इसके ऊपर गोलगप्पे बेल कर रखिये. White spanji rasgulla ki recipin btaye mam. आटे के गोल गप्पे बनाने के लिए, सबसे पहले आटे को गूंथ कर तैयार करें. गोल गप्पों के ठंडा हो जाने पर इन्हें  उबले आलू, मटर भरकर और स्वादिष्ट खटे मीठे पानी (How to make Pani for Golgappa) के साथ सर्व कीजिए. तेल के अच्छा गरम हो जाने पर इसमें जितनी पूरी एक बार में आ सकें डालते जाइये और कलछी से हल्का दबाव देते हुए इन्हें फुला लीजिए, गोल गप्पों को गोल्डन ब्राउन व क्रिस्प होने तक तल कर तैयार कर लीजिए. सारे गोल गप्पे बेल कर तैयार कर लीजिये. गूंथे आटे को 30 मिनिट के लिए गीले कपड़े में लपेट कर रख दीजिए. Know How to Make Chyawanprash Recipe in Hindi. मगर आज हम आपको एक ऐ... मीठे में मिठाई के अलावा अगर किसी रेसिपी का जिक्र है तो वो है केक की रेसिपी. फूले कुरकुरे गोलगप्पे बनाना कतई मुश्किल नहीं है. Read - Golgappa Puri Recipe / Pani Puri Recipe In English. 30 मिनिट बाद आटे से कपडा़ हटा दीजिए और हाथों पर तेल लगाकर आटे को अच्छे से मसल मसल कर चिकना कर लीजिए. महाराष्ट्र की आले पाक या फिर अदरक की बर्फी खाने में थोड़ी सी मीठी और थोड़ी सी तीखी। इसी बन... मूंग दाल से बनी बिहार की फेमस ट्रेडीशनल मिठाई मकुटी खाने में बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्... सर्दियों के मौसम के लिए खास गर्मागर्म साबूदाना हवला। इस सर्दी बनाए टेस्टी और बहुत ही जल्दी... तिल और भुनी हुई मूंगफली को पीस का बनाए हुए तिल और मूंगफली के स्वादिष्ट लड्डू। तिल और मूंगफ... कस्टर्ड पाउडर से बना फ्रूट कस्टर्ड तो आपने बहुत ही बार खाया होगा, लेकिन कस्टर्ड पाउडर से ब... सूजी पीठा या सूजी के रसगुल्ले। सूजी के स्वादिष्ट रसगुल्ले आज तक आपने सिर्फ छैना के रसगुल्ल... केक अगर चुटकियों में बनकर तैयार हो जाये तो यह सिर्फ बच्चों की ही नहीं आपकी भी फेवरेट लिस्ट... पनीर की रेसिपीज़ में विविधता का कोई अंत नहीं है। इसी विविधता को थोड़ा और आगे बढ़ाते हैं और ब... घर के बनाये हुए खाने में एक अलग ही स्वाद और अपनापन होता है। फिर न तो हमें इसके बासी और ख़रा... बच्चा पार्टी को चटपटे व मज़ेदार स्नैक्स खिलाकर खुश करना हो या फिर दोस्तों के साथ बैठकर चाय ... गरमा गरम तले हुए कुरकुरे समोसे देखकर हम सबका मन ललचा उठता है पर हम में से कुछ लोग जो बेहद ... पैनकेक मतलब बच्चों का फेवरेट नाश्ता और जिसे आसानी से बनाया जा सकता है. हाथ पर तेल लगाकर लोई को गोल करके हाथ से दबाते हुए चपटा कर लीजिए. आटे से बने गोलगप्पे सूजी गोलगप्पे (Suji Golgappa) की अपेक्षा वजन में एकदम हल्के होते हैं. चटाखेदार मसाला पानी, उबले आलू मटर से भरे गोल गोल गोलगप्पे को देखकर ही मुंह में पानी आ जाता है. सुझावगोल गप्पे के लिए आटा सख्त और एकदम चिकना गूंथा होना चाहिए.गोल गप्पे को बेलते समय ध्यान रखें की वो एक समान रूप से बेले जाएं बीच में से पतला न हों और न ही किनारों से मोटे रहें अगर ऎसा होता है तो गोल गप्पे अच्छे से फूलते नहीं हैं.गोल गप्पों को कलछी से दबाव देते हुए फुलाएं तो ये अच्छे से फूल कर तैयार होते हैं. आधा घंटा हो जाने पर कपडा़ हटा कर आटे को एकबार फिर से 3-4 मिनिट मसल कर चिकना कर लीजिए और फिर से आटे को गीले कपड़े में लपेट कर आधे घंटे के लिए रख दीजिए और उसके बाद फिर से इसे 4-5 मिनिट और मसल कर चिकना कर लीजिए. एक गीले कपड़े से आटे को ढके और 20-25 मिनट के लिए रख दें।. थोड़ा थोड़ा पानी डालकर सख्त आटा गूंथ ले।. ये अमूमन हर कि... इस ब्लाग की फोटो सहित समस्त सामग्री कापीराइटेड है जिसका बिना लिखित अनुमति किसी भी वेबसाईट, पुस्तक, समाचार पत्र, सॉफ्टवेयर या अन्य किसी माध्यम से प्रकाशित या वितरण करना मना है. Jesa aap ne batya tha vese hi bnaye the. बेले हुये गोलगप्पे को कपड़े पर रखिये और दूसरे गीले कपड़े से ढककर रखें, एक एक करके सारी लोईयों को गोल बेल कर कपड़े पर ढकते हुये रखते जाइये. अगर आप अपने बच्चे की सेहत का ध्यान रखना चाहती हैं तो च्वयनप्राश बच्चे की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने के लिए च्वयनप्राश (Chyawanprash) का नाम सबसे पहले आता है। च्वयनप्राश का नाम दो शब्दों से मिलकर बना है: च्वयन: ऋषि जिनके लिए यह सूत्रपात पहली बार किया गया था, प्राश: जिसका अर्थ है विशेष रूप से तैयार किया भोजन।, सर्दियों में हर रोज केवल एक चम्मच च्वयन प्राश लेने से ही हमारे शरीर को नरमी और पोषक तत्व की प्राप्ति होती है। इसमें आयुर्वेद का भी भरोसा होता है जो कि हमें ऊर्जा और एलमेंट्स से बचाता है। इस लेख में आप घर पर ही चवयनप्राश बनाना सीखेंगे।, यह आंवला और करौंदा से मिलकर बनता है और इसमें कई सारी जड़ी बूटियां मिलाई जाती है। जब आप बाहर से अपने बच्चे के लिए कोई पैक्ड फूड लेती है तब आपको अपने बच्चे की सेहत को लेकर चिंता रहती है। इसलिये घर पर बनाई गयी चीज़ हमेशा बेहतर होती है। आइये घर पर इसे बनाने की विधि (Ghar Par Chyawanprash Kaise Banaye) के बारे में जानते है।, च्वयनप्राश बनाने से पहले आपको इस बात का जरूर ध्यान रखना चाहिए कि इसे बनाने में धैर्य की आवश्यकता पड़ती है परंतु इसके अंतिम प्रणाम बहुत अच्छे होते हैं। इस विधि से आप 300 ग्राम च्वयनप्राश बना सकते हैं।, इसे भी पढ़ेंः बच्चों में इम्यूनिटी सिस्टम बढ़ाने वाले आहार, घर पर च्वयनप्राश बनाने की विधि (Ghar Par Chyawanprash Banane Ki Vidhi), जैसा कि आप जान गए हैं कि च्वयनप्राश कैसे बनाते हैं। अब आपका यह जानना भी जरूरी है कि इसको कैसे स्टोर करके रखना चाहिए। च्वयनप्राश को हमेशा गिलास के बर्तन में स्टोर करके रखें। इसे निकालते समय साफ और सुखी चम्मच का प्रयोग करें।.

Keranos Edh Primer, Crispy Roasted Red Potatoes, Molitva English Version Lyrics, Beneficial Microorganisms In Medical And Health Applications, Mythbusters Chemical Reactions, Pizza Pilgrims Eat Out To Help Out, Vegan Nespresso Recipes, Best Brand Of Pomegranate Molasses, Phoenix Force Vs Odin Force,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>
*
*